Sunday, July 4, 2010

कोई वादों की डोर से ,बंध कर टूट जाता है

तोड़ जाता है कोई ,वादों की डोर को,
कोई वादों की डोर से  ,बंध कर टूट जाता है.

"रजनी नैय्यर मल्होत्रा "

5 comments:

  1. aapki in panktiyon ne meri kuch purani yadon ko kured diya.............
    bas is lekh ne dil tak ghar bana liya mere

    ReplyDelete
  2. rajni ji kya khub likha hai bas dil tak ghar kar gayin ye do pankti aapki..............

    ReplyDelete