Sunday, March 4, 2012

रह गए तन्हा

वो गए मयखाने जिन्हें मय की प्यास थी,
रह गए तन्हा "रजनी" निगाहों की प्यास में |

9 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    होली की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब ... निगाहों से प्यास बुझाने वालों की ज्यादती है ...
    मयखाना ही भला ...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  4. bahut bahut aabhar ...........Naveen ji
    ............ Prasan ji.....

    ReplyDelete
  5. गंगा-दामोदर ब्लॉगर्स एसोसियेशन-
    आदरणीय मित्रवर-
    धनबाद के ISM में
    दिनांक 4 नवम्बर 2012 को संध्या 3 pm
    पर एसोसियेशन के गठन के लिए बैठक रख सकते हैं क्या ??
    अपनी सहमति देने की कृपा करे ||
    सायंकाल 6 से 9 तक एक गोष्ठी का भी आयोजन किया जा सकता है ||
    भोजन के पश्चात् रात्रि विश्राम की भी व्यवस्था रहेगी-

    ReplyDelete