Tuesday, September 6, 2011

ये भ्रम है चाँद को

देख कर बावलापन चकोर का ,
ये भ्रम है चाँद को,
कोई ज़माने में नही हंसी उसजैसा,
जब उसे अपने दाग नज़र आयेंगे,
वो ख़ुद पर शर्मिंदा तो होगा.

"रजनी"

6 comments:

  1. Wah! Chand bhee sharminda hoga! Kya khoobsoorat khayal hai!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब बधाई और शुभकामनाएं 09415898913

    ReplyDelete
  3. सुन्दर संवेदनशील अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  4. mera hardik aabharr dr. sharad ji.....

    jaitushar ji aapko bhi hardik aabhar

    ReplyDelete
  5. dil ko chhone wali abhivyakti badhai rajani ji .

    ReplyDelete